May 24, 2024

Sahi Khabar

Let's Know The Truth

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने जारी किया नोटिस मिल पर बंदी की तलवार लटकी

मेति शुगर फैक्ट्री पर प्रदूषण बोर्ड सख्त कार्रवाई के मूड में,हड़कंप
फैक्टी से हो रहे प्रदूषण से प्रर्यावरण को भारी नुकसान
ग्रीन बैल्ट होने के बावजूद जलाया जा रहा प्लास्टीक व रबर
प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने जारी किया नोटिस मिल पर बंदी की तलवार लटकी
सरधना (मेरठ) हर्रा मोड़ स्थित सुमेती शगुर फैक्ट्री से हा रहे जल प्रदुषण और वायू प्रदूषण को  लेकर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने आंखें तरेरी हैं। इसे लेकर शिकातयकर्ता की और से जारी प्रार्थना पत्र को संज्ञान लेते हुए बोर्ड ने फैक्ट्री को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए जवाब मांगा है जिसे लेकर फैक्ट्री प्रशासन में मिल बंदी को लेकर हड़कंप की स्थिति बनी हुई है और बचाव का रास्ता ढूंढ़ रहे हैं। प्रदूषण नियंत्रक बोर्ड ने शुगर फैक्ट्री को समयावधि के अंदर जवाब ना देने पर कार्यवाही के लिये चेताया है।
 हर्रा मोड़ पर स्थित सुमेती शुगर फैक्ट्री के खिलाफ हर्रा निवासी खालिक  ने प्रदूषण बोर्ड नियंत्रण से लिखित शिकायत कर रखी थी। इस संबंध में शिकायकर्ता का आरोप है कि फैक्ट्री द्वारा ग्रीन बैल्ट होने बावजूद फैक्ट्री द्वारा नियम विरूद्ध गुड बनाने की भट्टियों में बैगास के साथ-साथ प्रतिबंधित र्इंधन जूता,चप्पल,प्लास्टीक रबर आदि जलाये जा रहे हैं। जिससे फैक्ट्री से भारी मात्रा में प्रदूषण फैल रहा है जिससे ग्रीन बैल्ट होने के साथ-साथ पीड़ित के आम के बाग में काफी पेडों को नुकसान पहुंच रहा है। जिससे बाग में फसल कम होने के कारण हस साल लाखों रुपये का नुकसान हा रहा है। इसे लेकर पीड़ित ने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड में शिकायत की थी जिसके बाद मामले की जांच के लिये गत दिनों प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीम ने फैक्ट्री का दौरा कि या था। जिसके बाद टीम ने अब अपनी रिपोर्ट पीड़ित वादी  को अवगत करतो हुए मिल को नोटिस् जारी किया है जिसमें उत्तर प्रदूश नियंत्रण बोर्ड की और से जारी नोटिस से फैक्ट्री में जांच के दौरान बैगास के साथ रबर,प्लास्टीक व जूता वगैरहा जलाने व ब्वॉलर में भी वायु प्रदूषण नियंत्रण में नही पाया गया है नोटिस में मिल को चेतावनी व नाराजगी जताते हुए जल प्रदूषण भी करने का दोषी पाया गया है जिसके तहत अब बोर्ड की और से जारी  नोटिस में फैक्ट्री प्रशासन को अधिनियम 1974 व 1981 का उल्घन करने पर चेतावनी जारी करते हुए नोटिस के तुरंत बाद प्रदूषण की रोकथाम करने अवगत कराने को कहा गया है और समयावधि में ऐसा ना करने पर कार्यवाही के लिये चेताया गया है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जारी नोटिस व कार्यवाही को लेकर मिल प्रशासन में हड़कंप की स्थिति है और इसे लेकर मिल पर बंदी की तलवार लटक गई है। इस बारे में फैक्ट्री के मैनेजर कमर सिद्दीकी द्वारा मामले की जानकारी से इंकार कर दिया गया।
error: Content is protected !!