May 24, 2024

Sahi Khabar

Let's Know The Truth

बिना हथियार के होमगार्ड पर है चिकित्सक के परिवार की हिफाजत का जिम्मा

बिना हथियार के होमगार्ड पर है चिकित्सक के परिवार की हिफाजत का जिम्मा
चिकित्सक से मांगी गई है पचास लाख की रंगदारी
21 सितंबर तक का है समय, मांग पूरी नहीं करने दे रखी है परिजनों को मारने की धमकी
पच्चीस दिन चिकित्सक के यहाँ पड़ी डकैती में पुलिस के हाथ आजतक खाली
चिकित्सक के यहाँ डाली गई डकैती में लाखो की नगदी व जेवर लेगए थे बदमाश
बदमाशों ने लूट के बाद 50 लाख की रंगदारी भी मांगी थी
50 लाख की मांगी गई रंगदारी को लेकर चिकित्सक के परिजनो की नींद हराम है
सरधना (मेरठ) सरधना के नानू गांव में चिकित्सक के यहाँ पड़ी डकैती में पच्चीस दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली है। पुलिस अभीतक घटना घटना को अंजाम देने वाले किसी भी बदमाश का सुराग नहीं लगा सकी है। जिसके चलते चिकित्सक का परिवार खौफ  के साए में जी रहा है। चिकित्सक से मांगी गई 50 लाख की रंगदारी की तारीख जैसे जैसे नजदीक आरही है उसके परिवार की नींद हराम हो रही  है । इतनी बड़ी घटना के बाद पुलिस चिकित्सक के परिवार की सुरक्षा का जिम्मा बिना हथियार के एक होमगार्ड को दिया है। चिकित्सक इस संबंध में पुलिस के आलाधिकारियों से भी मिला चिकित्सक के मुताबिक़ पुलिस के अधिकारी उसके घर पड़ी डकैती को ही संदेह के दायरे में ले रहे है। अधिकारीयों के इस रवैये के बाद तो चिकित्सक ने अपने बच्चों को ही अपने से दूर भेज दिया है। अब चिकित्सक बुरी तरह डरा और सहमा हुआ है। बतादें की मेरठ करनाल मार्ग पर नानू गांव में बाहरी छोर  हाइवे पर डॉ बृजेश कुमार गुप्ता पुत्र अम्बे प्रसाद गुप्ता का मकान है। वह लम्बे समय से चिकित्सा कार्य कर रहे है डॉ बृजेश गुप्ता  के यहाँ विभिन्न राज्यों से बीमार आते है। डॉ  बृजेश गुप्ता का मकान के निचले भाग में  पूजा क्लीनिक व पूजा मेडिकल हॉल है। डॉ बृजेश गुप्ता की पुत्री ज्योति गुप्ता भी प्रेक्टिस करती है। डॉ बृजेश गुप्ता का परिवार अस्पताल के ऊपरी हिस्से में रहता है। गत 21 अगस्त की रात में लगभग पोने दो बजे आधा दर्जन से अधिक नकाब पोश बदमाश दीवार दकर डॉ बृजेश गुप्ता के घर में घुस गए थे। घर में सो रहे  डॉ बृजेश गुप्ता के परिजनों को बंधक बनाकर लाखों की डकैती डाली थी। बदमाशों ने सबसे पहले बृजेश गुप्ता की सास विमला पत्नी दीवान चंद निवासी कंकरखेडा को गनपॉइंट पर लेते हुए बंधक बनाया था। इसके द कमरे में सोए डॉ बृजेश गुप्ता,उसकी पत्नी,अनीता को उनके पुत्र विशाल गुप्ता व पुत्री ज्योति गुप्ता को कब्जे में लेकर बंधक बना लिया था I बदमाशों ने सबसे पहले घर में रखे सभी मोबाइलों को अपने कब्जे में लेते हुए उनकी बेटरिया निकाल कर अपने कब्जे में करली थी। इसी के साथ घर में लगे सीसीटीवी केमरों के कनेक्शन काट दिए थे। इसके बाद विशाल गुप्ता की कनपटी पर पिस्टल लगाकर घर में रखी सैफ की सभी चाबियाँ लेते हुए डॉ बृजेश गुप्ता को अपने साथ लेकर घर का कोना कोना खंगाला था। बदमाशों ने लगभग आठ लाख की नगदी व चार लाख के करीब सोने चांदी के आभूषण लूट लिए थे। इसके अलावा  बदमाशो ने पचास के एक नोट पर डॉ बृजेश के हस्ताक्षर कराए थे और कहा था की इस नोट को आगामी 21 सितंबर तक  उनका एक साथी लेकर आएगा जिसको 50 लाख रूपये रंगदारी के रूप में देने है 50 लाख न देने पर उसके पुत्र विशाल व पुत्री ज्योति की हत्या करने की चेतावनी भी दी थी । घटना की जानकारी पर एसपी देहात राजेश कुमार सिंह, सीओ भीम कुमार गौतम, एसओ सरधना धर्मेन्द्र कुमार राठोर, पुलिस फ़ोर्स के साथ मौके पर पहुंचे थे। मौके पर डॉग स्क्वायड टीम भी बुलाई गई थी।  एसपी देहात ने घटना का शीघ्र खुलासा करने का आश्वासन दिया था साथ ही चिकित्सक को सुरक्षा मुहय्या कराने का भी भरोसा दिया गया था । इस संबंध में डॉ बृजेश गुप्ता ने अज्ञात लुटेरों के खिलाफ तहरीर देकर कार्यवाई की मांग की थी। 25  दिन बीत गए लेकिन पुलिस अभी तक किसी भी बदमाश का सुराग तक नहीं लगा सकी है। जिसके चलते चिकित्सक का परिवार खौफ के साए में जी रहा है। पुलिस ने चिकित्सक के परिवार को सुरक्षा के नाम पर मात्र होमगार्ड दिया है वो भी बिना हथियार का  है। अब जैसे जैसे बदमाशों की धमकी भरी तारीख नजदीक आरही है वैसे ही चिकित्सक के परिवार की बेचैनी बढ़ रही है जिसके चलते चिकित्सक का परिवार सुरक्षा मुहैया कराये जाने के लिए पुलिस के आलाधिकारियों से भी मिला। चिकित्सक के मुताबिक़ अधिकारी उसके घर पड़ी डकैती को ही संदिग्ध मान रहे है जिसके चलते बिना हथियार के होमगार्ड को चिकित्सक के परिवार की हिफाजत का जिम्मा दिया हुआ है। अधिकारीयों के इस रवैये के बाद चिकित्सक अपने पुत्र व पुत्री को गांव के बाहर भेजने पर मजबूर हो गया है।
error: Content is protected !!