May 22, 2024

Sahi Khabar

Let's Know The Truth

राशन न मिलने से क्षुब्ध ग्रामीणों ने रोहटा ब्लॉक के सामने किया रोड़ जामा,हंगामा

aaa,,,,राशन न मिलने से क्षुब्ध ग्रामीणों ने रोहटा ब्लॉक के सामने किया रोड़ जामा,हंगामा
सरधना (मेरठ)  राशन न मिल पाने से क्षुब्ध रोहटा के सैंकड़ों ग्रामीणों ने सोमवार को ब्लॉक के सामने मेरठ-बड़ौत मार्ग पर जाम लगाते हुए जमकर हंगामा काटा । लगभग दो घंटे तक चले जाम के दौरान हंगामा कर रहे ग्रामीणों का कहना था कि सरकार की और से मिलने वाले राशन सामग्री को डीलर उन्हें नही दे रहा है। विरोध करने पर दबंगई दिखाता है जिसे लेकर वे परेशान हैं और कोई सुनवाई नही हो रही है। हालांकि बाद में पहुंची पुलिस के समझाने के बाग़  दबाव में आकर  ग्रामीणों ने जाम खोल दिया। जिसके बाद अब ग्रामीण जिलाधिकारी से मिलकर अपनी समस्या रखेंगे ।
गांवों में हुए प्रधानी के चुनाव के बाद बदले समीकरणों के चलते राशन डीलरों को लेकर रोज नई राजनिती हो रही है और गांवों के इसे लेकर बुरा हाल बना हुआ है । इसी के चलते सोमवार को रोहटा गांव में भी सैंकड़ों महिलाएं व पुरुष ब्लॉक मुख्यालय पर पहुंचे और वहां सस्ते खादान्नय न मिलने की शिकायत की  जिस पर ब्लॉक कर्मचारियों ने आला अफसरों से शिकायत करने की बात कहकर ग्रामीणों को टरका दिया। इसके बाद परेशान ग्रामीण जिनमें दर्जनों महिलाएं  शामिल थीं उन्होंने मेरठ-बड़ौत रोड़ पर थाने के पास व ब्लॉक मुख्यालय के सामने जाम लगा दिया और रोड़ पर अपनी मांगों को लेकर बैठ गए। इसदौरान हंगामा कर रहे ग्रामीणों ने राशनी डीलरों पर मनमानी का आरोप लगाते हुए जमकर हांगाम प्रर्दशन करना शुरु कर दिया। घंटों तक चले हंगामे के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और उत्तेजित ग्रामीणों से उनक समस्या पूछी। ग्रामीणों ने बताया कि गांव के राशन डीलर उन्हें सरकार से मिल रहे सस्ते खादान्य नही दे रहे हैं जबकि बाकि को मिल रहा है। इसे लेकर पुलिस ने मामले का हल जाम के बजाए तहसील दिवस में जाकर करने का सुक्षाव देते हुए जाम खालेने को कहा। हालांकि शुरु में ग्रामीणा नही माने लेकिन बाद में पुलिस के दबाव के चलते जाम खोल दिया गया। इसे लेकर रोड़ पर दूर तक काफी वाहन जमा हो गए थे। जिसके बाद ग्रामीणों ने अब तहसील दिवस में जाकर समस्या का समाधान कराने की बात कही है। एधर इस बारे में राशन डीलरों यशवीर सिंह व दिलशान ने बताया कि जिले से उनके पास लगभग 806 राशन कार्ड धारकों का सस्ते खादान्य का राशन मिल रहा है जिसे वे नियमित रूप से सभी सरकार की और से चयपित पात्रों को समय पर निर्धारित दरों पर वितरण कर रहे हैं। जबकि इसके विपति उनके पास लगभग पंद्रह सौ राशन कार्ड धारक हैं लेकिन सबका रोशन जिले से नही मिल पाने के कारण सबको देना संभव नही है।
error: Content is protected !!