May 24, 2024

Sahi Khabar

Let's Know The Truth

लापरवाही : पांच वर्षों में भी टंकी से घरों तक पानी नही पहुंच पाया

rohta paniलापरवाही : पांच वर्षों में भी टंकी से घरों तक पानी नही पहुंच पाया
भीषण गर्मी में पीने के पानी को भी तरस रहे लोग
ठेकेदार व मजूदरों के बीच हुए विवाद के बाद मामला अटका
सरधना (मेरठ) रोहटा से सटे ख्वाजमपुर माजरा गांव में जल निगम द्वारा बनवाई गई पानी की टंकी लोगों के जी का जंजाल बनकर रह गई है। पांच सालों में बुमश्किल से बनकर तैयार हुई पानी की टंकी अब शुरु नही हो पा रही है जबकि पूरी तरह से पानी की टंकी के ऊपर डिपेंड कर दिये गए ग्रामीणों के सामने अब भीषण गर्मी में किल्लत खड़ी हो गई है। लेकिन ठेकेदार के पांच माह से जेल जाने के बाद से टंकी विवादों के घेरे में होने के कारण चालू नही हो पाई है। जिसे लेकर अब ग्रामीणों ने अधिकारियों से हस्तक्षेप करके चालू कराने की मांग की है।
ब्लॉक रोहटा के ख्वाजमपुर माजरा गांव में अब से पांच साले पहले जल निगम द्वारा पानी की टंकी का निमार्ण कार्य शुरु कराया गया था तो ग्रामीणों में हर्ष की लहर दौड़ी थी कि अब ग्रामीणों को टंकी की सुविधा मिल जाएगी लेकिन ऐसा अब जबकि पांच साल से भी ज्यादा हो गए हैं लेकिन हो नही पाया है और ये टंकी अब लोगों के जी का जंजाल बनकर रह गई है। इस बारे में ग्रामीण रामभूल,सोहनवीर,नफीस,भुल्लन,नितिन व दिलशाद  आदि ने बताया कि पांच साल पहले ठेकेदार ने काम शुर किया था जो कई बार रुकने के बाद लगभग पांस सालों में पूरा तो हो गया और गांव में नाली-खडंजे उखाडकर पानी की पाइप लाइन भी ठेकेदार द्वारा बिछा दी गई ।  हालांकि खुदाई के दौरान गांव के सारे खड़जे और नाली खराब होने के बाद भी  ग्रामीणों ने इसे सहन किया कि चलो कम से कम पानी की आपूर्ति तो घरों तक पहुंचेगी लेकिन ऐसा आज तक नही हुआ है। ग्रामीणों के मुताबिक अब जबकि टंकी व पाइप लाइन का काम पूरा हो गया था जिसे लगभग पांच महीने से भी ज्यादा हो गए लेकिन इसी दौरान टंकी निर्माण में लेग मजूदरों व ठेकेदार में हुऐ विवाद के बाद कोर्ट कचहरी के चक्कर में पडने पर ठेकेदार को जेल जाना पड़ गया जिसके बाद से ठेकेदार के जेल से आने की आस में आज तक पानी चालू करने का काम पूरा नही हो सका है जबकि पाइप लाइन भी पानी चालू ना होने के कारण चोक होने लगी है। अब जबकि भीषण गर्मी सिर पर है। लेकिन गांव के लोगों को टंकी बनाकर पहले से ही टंकी के पाने के ऊपर डिपेंड कर दिया गया जिसके बाद अब ग्रामीण भारी परेशानी झेल रहे हैं और पीने के पानी से लेकर पशुओं तक को भी पानी मयस्सर नही हो पा रहा है लेकिन ग्रामीणों के इस दुख दर्द को साढ़े पांच साल बाद भी  कोई पूछ ने वाला नही है जबकि ग्राीषण पानी के लिये एक तरह से तड़फ रहे हैं। इसे लेकर अब परेशान हाल ग्रामीणों ने अधिकारियों से हस्तक्षेप करके पानी की टंकी चालू करने की मांग की है। इस बारे में बीडीओ रोहटा रोहताश कुमार का कहना है कि  वे जल्द ही जल निमग से बात करके टंकी चालू कराने के लिये बात करेंगे।
error: Content is protected !!